18 Sep 2019, 23:53:06 के समाचार About us Android App Advertisement Contact us app facebook twitter android
Sport

बेल्जियम दौरा फाइनल से पहले अहम परीक्षा: श्रीजेश

By Dabangdunia News Service | Publish Date: Sep 11 2019 2:51PM | Updated Date: Sep 11 2019 2:51PM
  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

बेंगलुरू। भारतीय पुरूष हॉकी टीम के अनुभवी गोलकीपर पीआर श्रीजेश ने माना है कि महत्वपूर्ण ओलंपिक क्वालिफायर से पहले होने वाला बेल्जियम दौरा टीम के लिये फाइनल परीक्षा से पूर्व तैयारी के लिहाजा से काफी अहम साबित होगा। भारतीय टीम 26 सितंबर से 3 अक्टूबर तक बेल्जियम के दौरे पर रवाना होगी जहां वह ओलंपिक क्वालिफायर की तैयारियों को अंतिम रूप प्रदान करेगी। भारत की सीनियर पुरूष हॉकी टीम एफआईएच ओलंपिक क्वालिफायर में रूस के साथ खेलेगी जिसकी घोषणा सोमवार को ड्रॉ में की गयी थी। श्रीजेश ने बुधवार को कहा,‘‘ हर खिलाड़ी का सपना ओलंपिक में खेलने का होता है और रूस अब हॉकी में भी काफी मेहनत कर रहा है और निश्चित ही उसकी टीम काफी तैयारी के साथ उतरेगी जो भारतीय टीम के लिये बड़ी चुनौती साबित हो सकती है।’’अंतरराष्ट्रीय संस्था ने काफी समय से लगायी जा रही अटकलों के बाद ड्रॉ निकाल विपक्षी टीमों की घोषणा की है।

उन्होंने कहा कि एफआईएच ने काफी असमंजस पैदा करने के बाद ओलंपिक क्वालिफायर का ड्रॉ निकाला जो काफी रोमांचक रहा और सभी खिलाड़ियों में इस बात को लेकर बहुत उत्साह था कि विपक्षी टीम कौन सी होगी। सभी ने मिलकर इस ड्रॉ को देखा। लेकिन भारतीय टीम किसी भी विपक्षी का सामना करने को लेकर मानसिक रूप से तैयार थी। श्रीजेश ने टीम की पांचवीं रैंकिंग बरकरार रखने का इरादा जताते हुये कहा कि बेल्जियम दौरा खिलाड़ियों को और मजबूत बनायेगा और बड़ी टीमों का सामना करने के लिये तैयार करेगा। भुवनेश्वर में एक और दो नवंबर को ओलंपिक क्वालिफायर मुकाबले होने हैं।

 

उन्होंने कहा,‘‘विश्व चैंपियन बेल्जियम के साथ खेलना हमारी तैयारियों को परखने के लिये असल परीक्षा होगी। हम बेहतर डिफेंस, पेनल्टी कार्नर को भुनाने और गोल के मौके बनाने जैसी तकनीकों पर काम कर रहे हैं और कोशिश रहेगी कि बेल्जियम के खिलाफ हम इसे लागू कर सकें।’’ अनुभवी गोलकीपर ने अन्य गोलकीपर विकल्पों को लेकर कहा कि उनके साथी सूरज कारकेरा और कृष्ण पाठक ने टोक्यो में ओलंपिक टेस्ट इवेंट में अच्छा प्रदर्शन किया था और वे अच्छे विकल्प हैं। उन्होंने कहा,‘‘ दोनों ही बढ़िया गोलकीपर हैं। टीम के अंदर प्रतिस्पर्धा होना अच्छी बात होती है और इन्हें सिखाने में मुझे मजा आता है क्योंकि इससे मेरा निजी खेल और भी बेहतर होता है।

  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

More News »