19 Jun 2019, 04:40:50 के समाचार About us Android App Advertisement Contact us app facebook twitter android
State

भाजपा के ‘लाल बाजार अभियान’ को लेकर सुरक्षा पुख्ता

By Dabangdunia News Service | Publish Date: Jun 12 2019 3:13PM | Updated Date: Jun 12 2019 3:14PM
  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

कोलकाता। पश्चिम बंगाल में ‘संदेशखाली कांड’ को लेकर भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के प्रस्तावित लाल बाजार अभियान प्रदर्शन को देखते हुए पुलिस ने बुधवार को एहतियातन 24 उत्तरी परगना जिले में सुरक्षा कड़ी कर दी। भाजपा के कार्यकर्ता आज वेलिंग्टन स्क्वायर से लाल बाजार क्षेत्र तक विरोध प्रदर्शन आयोजित करेंगे। रविवार को 24 उत्तर परगना जिले के संदेशखाली में भाजपा और सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस के कार्यकर्ताओं के बीच हिंसक झड़प हुयी थी जिसमें भाजपा के दो और सत्तारूढ़ दल के एक कार्यकर्ता की मौत हो गयी थी।
 
इसके बाद से क्षेत्र में तनाव व्याप्त हो गया है। इससे पहले भाजपा ने दो जून को संदेशखाली में  हुयी  झड़प के दौरान पुलिस की भूमिका को लेकर 10 जून को 12 घंटे का बशीरहाट  उप मंडल बंद का आयोजन किया था। भाजपा ने इसे काला दिवस के रुप में मनाया था। केन्द्र ने लोकसभा चुनाव के खत्म होने के बाद भी पश्चिम बंगाल में जारी राजनीतिक हिंसा पर गहरी चिंता व्यक्त करते हुए एक एडवाइजरी जारी की थी। 
 
एडवाइजरी में कहा गया था,‘‘ विगत कुछ सप्ताहों से राज्य में हो रही हिंसक घटनाओं से यह साफ हो गया है कि राज्य की कानून- व्यवस्था चौपट हो गयी है। राज्य में कानून-व्यवस्था बहाल करने और लागों की सुरक्षा के लिए सभी आवश्यक कदम उठाये जाने की सलाह दी जाती है।’’ भाजपा नेता मुकुल रॉय ने मुख्यमंत्री ममता बनर्जी से इस्ताफा देने की मांग करते हुए कहा कि उन्होंने स्वीकार किया है कि कुछ पुलिस अधिकारी बदमाशों को शह दे रहे हैं और उनके खिलाफ कार्रवाई नहीं कर रहे हैं।
 
रॉय ने कहा कि मुख्यमंत्री के इस बयान का जिक्र करते हुए कहा कि चूंकि सुश्री बनर्जी के पास गृहमंत्रालय है और उन्होंने कहा है कि पुलिस के कुछ अधिकारी उनके आदेश का पालन नहीं कर रहे हैं, अत: उन्हें इस्तीफा दे देना चाहिए। उन्होंने कहा,‘‘ अगर पुलिसकर्मी ममता बनर्जी की नहीं सुन रहे हैं तो उन्हें इस्तीफा दे देना चाहिए क्योंकि वह राज्य की गृहमंत्री भी हैं। यहां तक कि उनके दल के कुछ विधायक भी यही बात कह रहे हैं। उन्हें जिम्मेदारी लेते हुए अपने पद से हट जाना चाहिए।’’
 
रॉय ने कल संदेशखाली घटना की राष्ट्रीय जांच एजेंसी से जांच कराये जाने की मांग की थी। केन्द्रीय खुफिया ब्यूरो के छह सदस्यीय दल ने 10 जून को मौके का जायजा लिया था। राज्यपाल केसरी नाथ त्रिपाठी ने रविवार को ही नयी दिल्ली पहुंच कर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी और केन्द्रीय गृहमंत्री अमित शाह को राज्य की स्थिति से अवगत कराया था।  
 
  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

More News »