25 Jun 2019, 17:17:40 के समाचार About us Android App Advertisement Contact us app facebook twitter android
Business

जेट एयरवेज बंद होगी या नहीं इस पर आज फैसला

By Dabangdunia News Service | Publish Date: Apr 15 2019 11:41AM | Updated Date: Apr 15 2019 11:41AM
  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

मुंबई। घाटे से जूझ रही जेट एयरवेज के 1100 पायलटों ने वेतन न मिलने के कारण सोमवार से विमान न उड़ाने का जो फैसला लिया था, उसे फिलहाल टाल दिया गया है। इसके साथ ही जेट के पायलटों ने विमानन कंपनी को बचाने के लिए एसबीआई से 15000 करोड़ रुपये का फंड जारी करने की अपील की है और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से 20,000 नौकरियां बचाने में मदद करने का अनुरोध भी किया है। 
 
जेट पायलटों की यूनियन नेशनल एविएटर्स गिल्ड (एनएजी) ने कहा कि कंपनी प्रबंधन और एसबीआई के बीच आज होने वाली अहम मुलाकात के कारण उसने फैसला पलटा है। अब इस मीटिंग के आधार पर ही विमान न उड़ाने पर आगे निर्णय लिया जाएगा।
 
हालांकि सभी पायलटों और अन्य कर्मचारियों को सुबह 9:30 बजे जेट एयरवेज के मुख्यालय पर एकत्र होने को कहा गया है। इससे पहले गिल्ड ने रविवार सुबह पायलटों को जनवरी से वेतन का भुगतान न होने के कारण विमान न उड़ाने की ठानी थी। गिल्ड का दावा है कि वह 1600 पायलटों में से करीब 1100 पायलट का प्रतिनिधित्व कर रही है।
 
 
नरेश गोयल की जेट एयर एयरलाइंस जेट एय़रवेज के लिए बोली लगा रही है। इसकी कंपनी से जेट एयरवेज का जन्म हुआ था। जेट एयरवेज अब सिर्फ 7 विमान से उड़ रही है। दिसंबर में कंपनी के पास 124 विमान थे। कर्मचारियों को जनवरी से वेतन नहीं मिला है। जेट एयरवेज का शेयर करीब 0.73 फीसदी की गिरावट के साथ 258.8 रुपए पर ट्रेड कर रहा है।
 
जेट एयरवेज के पायलटों के संगठन नेशनल एवियटर्स गिल्ड (एनएजी) ने 'विमान नहीं उड़ाने' के अपने फैसले को कुछ समय के लिए टाल दिया है। संगठन ने ऐसे समय में यह निर्णय किया है जब सोमवार को एयरलाइन के प्रबंधन की ऋणदाताओं के साथ बैठक होनी है।
 
इससे पहले गिल्ड से जुड़े करीब 1,100 पायलटों ने ‘वेतन भुगतान नहीं होने की वजह से’ सोमवार सुबह 10 बजे से विमान नहीं उड़ाने की घोषणा की थी।गिल्ड समिति ने देर शाम सदस्यों को एक पत्र लिखकर कहा है, 'हमें सूचना मिली है कि कल (सोमवार) एयरलाइन प्रबंधन और एसबीआई के साथ एक अहम बैठक होनी है।'
 
उसमें कहा गया है, 'बैठक को देखते हुए सदस्यों ने अपने टीम लीडरों के जरिए अनुरोध किया है कि 'वेतन नहीं तो काम नहीं' के फैसले को टाल दिया जाए ताकि एयरलाइन को पुनर्जीवित होने का एक मौका मिल सके। अनुरोध के मुताबिक समिति सबको यह सूचित करना चाहती है कि कुछ समय के लिए सभी फैसलों को टाल दिया गया है।'
 
सभी पायलटों से 15 अप्रैल को सुबह साढ़े नौ बजे मुंबई के अंधेरी स्थित जेट एयरवेज के मुख्यालय सिरोया सेंटर में यूनिफॉर्म में उपस्थित होने का आग्रह किया गया है। एनएजी कुल 1,600 पायलटों में से 1,100 पायलटों के प्रतिनिधित्व का दावा करता है।
 
इकाई ने मार्च के अंत में एक अप्रैल से जहाज नहीं उड़ाने का निर्णय किया था। उन्होंने बाद में इसे 15 अप्रैल तक के लिए टाल दिया था। उनका कहना था कि वह नए प्रबंधन को कुछ और समय देना चाहते हैं। भारतीय स्टेट बैंक की अगुवाई में बैंकों का एक समूह इन दिनों जेट एयरवेज के प्रबंधन का काम देख रहा है।
  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

More News »