20 Apr 2019, 10:02:37 के समाचार About us Android App Advertisement Contact us app facebook twitter android
Business

अहमदाबाद-बैंकाक के बीच उड़ान शुरू करेगी एयर एशिया

By Dabangdunia News Service | Publish Date: Apr 9 2019 3:01PM | Updated Date: Apr 9 2019 3:03PM
  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

अहमदाबाद। एयर एशिया थाइलैंड ने भारत में अपने नौंवे सीधी उड़ान सेवा स्थल के तौर पर गुजरात के सबसे बड़े शहर अहमदाबाद से बैंकाक के बीच आगामी 31 मई से हर सप्ताह चार दिन सीधी उड़ाने शुरू करने की आज घोषणा की। एयर एशिया इंडिया (एयर एशिया समूह की भारतीय कंपनी) के मार्केटिंग प्रमुख राजकुमार परंथमन और थाईलैंड टूरिज्म अथारिटी के मुंबई कार्यालय की प्रमुख चोलादा सिद्धिवर्न ने आज यहां एक संयुक्त संवाददाता सम्मेलन में बताया कि ये उड़ाने हर सप्ताह सोमवार, बुधवार, शुक्रवार और रविवार को दोनो तरफ से होंगी।
 
इसके लिए पूरी तरह इकोनॉमी श्रेणी वाली 180 सीटों के एयरबस 320 का इस्तेमाल होगा। यह अहमदाबाद से उड़ान संख्या एफडी 145 के तौर पर रात 2220 पर उड़ कर सवा चार बजे (थाई समय जो कि भारतीय समय से डेढ़ घंटे आगे है) पहुंचेगी। बैंकाक से यह उड़ान संख्या 144 के तौर पर स्थानीय समय के अनुसार शाम सात बजे उड़ कर 2150 बजे अहमदाबाद पहुंचेगी।
 
उन्होंने बताया कि अहमदाबाद, कोच्चि, चेन्नई, कोलकाता, बेंगलुरू, भुवनेश्वर, जयपुर, विशाखापत्तनम और गया (विशेष अवधि में) के बाद नौंवा भारतीय शहर होगा जहां से एयर एशिया थाईलैंड की बैंकाक से सीधी उड़ान सेवाएं हैं। एक प्रश्न के उत्तर में श्री परंथमन ने बताया कि एयर एशिया इंडिया के पास फिलहाल अंतर्राष्ट्रीय उड़ान की लाइसेंस नहीं होने के कारण यह उड़ाने एयर एशिया थाईलैंड के जरिये संचालित की जायेंगी। आने वाले समय में इसे सप्ताह के सातों दिन करने का प्रयास किया जायेगा।
 
शुरूआत में एक तरफ से 4999 रूपए का प्रोत्साहन किराया भी रखा गया है। उड़ान में गुजराती और भारतीय शाकाहारी व्यंजन उपलब्ध होंगे और जैन भोजन की भी उपलब्धता सुनिश्चित करने के प्रयास किये जायेंगे। सिद्धिवर्न ने कहा कि अहमदाबाद और गुजरात में थाईलैंड के लोगों के लिए व्यापार और पर्यटन की प्रचुर संभावनाएं हैं जिन्हें इस्तेमाल करने का जरिया यह उड़ाने भी बन सकती हैं। उन्होंने बताया कि पिछले साल 15 लाख भारतीयों ने थाईलैंड की यात्रा की थी जो उससे पहले के साल से 12 प्रतिशत अधिक था और इनमें से लगभग 10 प्रतिशत गुजराती थे।
 
  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

More News »