22 Oct 2019, 04:48:40 के समाचार About us Android App Advertisement Contact us app facebook twitter android
news » National

भागवत ने कहा- भारत के 'हिंदू राष्ट्र' होने को लेकर संघ अडिग

By Dabangdunia News Service | Publish Date: Oct 8 2019 7:31PM | Updated Date: Oct 8 2019 7:53PM
  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

नागपुर। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के प्रमुख मोहन भागवत ने मंगलवार को कहा कि संघ अपने इस नजरिये पर अडिग है कि भारत एक हिंदू राष्ट्र है और हिंदू अगर चाहते हैं कि दुनिया उनकी बात सुने तो उन्हें एकजुट होने की जरूरत है। नागपुर के रेशमीबाग में संघ के विजयादशमी उत्सव के दौरान अपने संबोधन में सरसंघचालक ने कहा कि राष्ट्र के वैभव और शांति के लिए काम कर रहे सभी भारतीय हिंदू हैं। उन्होंने कहा, संघ की अपने राष्ट्र की पहचान के बारे में, हम सबकी सामूहिक पहचान के बारे में, हमारे देश के स्वभाव की पहचान के बारे में स्पष्ट दृष्टि व घोषणा है, वह सुविचारित व अडिग है कि भारत हिंदुस्तान, हिंदू राष्ट्र है. संघ प्रमुख ने कहा कि हिंदू अगर चाहते हैं कि उनकी आवाज दुनिया द्वारा सुनी जाये तो उन्हें एकजुट होने और शक्ति हासिल करने की जरूरत है। 

भागवत ने कहा, जो भारत के हैं, जो भारतीय पूर्वजों के वंशज हैं तथा सभी विविधताओं का स्वीकार, सम्मान व स्वागत करते हुए आपस में मिलजुल कर देश का वैभव तथा मानवता में शांति बढ़ाने का काम करने में जुटे हैं वे सभी भारतीय हिंदू हैं। उन्होंने कहा, हम मानते हैं कि एक हिंदू व्यक्ति बहुलतावाद को स्वीकार करता है, धर्मों का सम्मान करता है और देश की बेहतरी के लिए काम करता है। यह चीजें सुनने में अच्छी लगती हैं, लेकिन लेकिन दुनिया ताकतवरों की बात ही सुनती है. भागवत ने कहा कि संघ यही बात पिछले 10-15 सालों से कह रहा है। उन्होंने कहा, मैं 2009 में भी संघ प्रमुख था, लेकिन तब मुझे सुनने के लिए यहां इतने लोग नहीं थे. आज, यहां ज्यादा लोग हैं और इसकी वजह है विभिन्न क्षेत्रों में संघ की वृद्धि सरसंघचालक ने कहा, जब तक आपके पास कुछ शक्ति नहीं होगी दुनिया आपकी बात नहीं सुनेगी। कमजोर की बात कोई नहीं सुनता, यहां तक कि कमजोर लोगों के हितों की सुरक्षा की भी कोई कोशिश नहीं करता।

  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

More News »