21 May 2019, 00:11:36 के समाचार About us Android App Advertisement Contact us app facebook twitter android
news » National

पाक जासूस को एरिया वेरिफिकेशन के लिये जैसलमेर लाया गया

By Dabangdunia News Service | Publish Date: Mar 14 2019 11:04PM | Updated Date: Mar 14 2019 11:04PM
  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

जैसलमेर। पाकिस्तानी खुफिया एजेन्सी आई.एस.आई देश की सामरिक गोपनीय सूचनाएं देते हुये पकड़े गए जैसलमेर के सम थाना क्षेत्र में पाकिस्तानी जासूस नवाब खान को आज एरिया वेरिफिकेशन के लिए जयपुर से जैसलमेर लाया गया। पुलिस उपअधीक्षक हरी चरण मीणा के नेतृत्व में जैसलमेर पहुंची टीम ने उसे जैसलमेर के कई स्थानो पर ले जाकर वेरिफिकेशन करवाया जहां की जानकारी उसने सीमा पार आई.एस.आई को भिजवाई थी। तीन दिन पूर्व जयपुर में विशेष थाना पुलिस द्वारा गिरफतार किये गए नवाब खांन को न्यायालय द्वारा तीन दिन के पुलिस रिमांड में सौंपा हुआ हैं।

मीणा ने बताया कि आरोपी नवाब खांन जैसलमरे के रेतीले धोरो पर आने वाले सैलानियों के अलावा सेना, बी.एस.एफ एवं अन्य सुरक्षा पर्सनल को यहां के टीलो पर घुमाने के दौरान उनसे बातों ही बातों में जानकारी जुटा कर सीमा पार आई.एस.आई को भिजवा रहा था। उन्होंने बताया कि आरोपी को जैसलमेर के मुख्य डाकघर ले जाया गया जहां पर उसने अपना आधारकार्ड देकर पाकिस्तानी खुफिया एजेन्सी आई.एस.आई द्वारा पाकिस्तान से वेस्टर्न मनी ट्रांसफर द्वारा भेजे गए 5000 रुपये प्राप्त किये थे। इसके अलावा उसे जैसलमेर शहर, दामोदरा, सम, उसके गांव  आदि अन्य विभिन्न स्थलो पर लेजाकर वेरिफिकेशन करवाया गया। उसको आई.एस.आई द्वारा बहुत मोटा पैसा भेजने का लालच दिया गया था। अतिरिक्त महानिदेशक उमेश मिश्रा ने बताया कि सम थाना अन्तर्गत गांगा की बस्ती निवासी नवाब खान पिछले एक साल से आई.एस.आई को देश की गोपनीय एवं सामरिक सूचनाएं, फोटोग्राफ भिजवा रहा था।

पाकिस्तान में बैठे आई.एस.आई के हैण्डलर उसे प्रतिदिन कॉल करके देश की गोपनीय जानकारी हासिल कर रहे थे। उन्होंने बताया कि पुलवामा आतंकवाद हमले के बाद उसे सेना की गतिविधियां की जानकारी जुटाने का स्पेशल टास्क दिया जा रहा था। इस संदर्भ में उसके द्वारा प्रतिदिन सीमा पार आई.एस.आई को फोन किया जा रहा था। उन्होंने बताया कि आरोपी सोशल साईट एवं वॉट्सअप आदि के जरिये वीडियो कॉल कर देश की सूचनाएं एवं सामरिक महत्व के फोटो एवं अन्य गतिविधियों की जानकारी मुहैया करवा रहा था। उसे हवाला के जरिए पाकिस्तान से बड़ी मात्रा में राशि मिलने की बात सामने आई है। पूछताछ में आरोपी ने  स्वीकारा हैं कि गत वर्ष वह शुरूआत में पाकिस्तान गया था वहां पर निवास कर रहे रिश्तेदार ने पाकिस्तानी खुफिया ऐजेन्सी आई.एस.आई के एक हैण्डलर से मिलवाया था तथा भारत से पाकिस्तान के लिये जासूसी करने के लिये तैयार किया था। तब से वह लगातार देश की सामरिक एवं गोपनीय सूचनाएं सीमा पार भेज रहा था। कुछ समय पूर्व उस पर शक होने पर उस पर नजर रखी जा रही थी। 

 
  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

More News »