15 Oct 2019, 00:02:57 के समाचार About us Android App Advertisement Contact us app facebook twitter android
Sport » Cricket

आखिर सुलझ नहीं सकी चार नंबर की पहेली

By Dabangdunia News Service | Publish Date: Jul 12 2019 12:31AM | Updated Date: Jul 12 2019 12:31AM
  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

नई दिल्ली। वर्ष 2015 के विश्वकप के बाद से लेकर 2019 के विश्वकप तक टीम इंडिया की चौथे नंबर की पहेली ऐसी उलझी कि अब तक सुलझ नहीं पायी है। इंग्लैंड में आयोजित विश्वकप से पहले बल्लेबाजी क्रम में चौथे नंबर को लेकर लगातार चिंता व्यक्त की जा रही थी और ये चिंताएं भारत के विश्वकप से बाहर हो जाने के बाद सही साबित हो गयी। भारत ने इस विश्वकप में चौथे नंबर पर चार बल्लेबाजों को आजमाया जो टीम रणनीति के लिहाज से सही नहीं कहा जा सकता। भारत ने दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ मैच में चौथे नंबर पर लोकेश राहुल को उतारा। आस्ट्रेलिया के खिलाफ मुकाबले में हार्दिक पांड्या उतरे। न्यूजीलैंड के खिलाफ मैच बारिश से धुल गया। आस्ट्रेलिया के खिलाफ मैच में चोट लगने के बाद ओपनर शिखर धवन टूर्नामेंट से बाहर हो गये और लोकेश राहुल को चौथे नंबर से ओपंनिंग में जाना पड़ा।
 
पाकिस्तान के खिलाफ मैच में पांड्या चौथे नंबर पर उतरे जबकि अफगानिस्तान और वेस्टइंडीज के खिलाफ विजय शंकर को चौथे नंबर पर उतारा गया। शंकर के टूर्नामेंट से बाहर हो जाने के बाद रिषभ पंत को टीम में शामिल किया गया था और इंग्लैंड, बंगलादेश, श्रीलंका तथा सेमीफाइनल में न्यूजीलैंड के खिलाफ पंत चौथे नंबर पर उतरे। टीम प्रबंधन ने बल्लेबाजी के इस सबसे महत्वपूर्ण क्रम पर किसी भी बल्लेबाज को स्थायित्व का मौका नहीं दिया और बार बार इस क्रम पर नये बल्लेबाजों को आजमाया जाता रहा। सेमीफाइनल हारने के बाद पूर्व भारतीय कप्तान सौरभ गांगुली ने स्पष्ट तौर पर कहा था कि अनुभवी महेंद्र सिंह धोनी को चौथे नंबर पर उतारा जाना चाहिये था। 
 
  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

More News »