20 Aug 2019, 04:15:29 के समाचार About us Android App Advertisement Contact us app facebook twitter android
Business

ऑटो सेक्टर: बिक्री गिरने से नौकरी पर गहराया संकट

By Dabangdunia News Service | Publish Date: Jul 28 2019 1:25AM | Updated Date: Jul 28 2019 1:26AM
  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

नई दिल्ली। जुलाई माह से लगातार कार की बिक्री में गिरावट दर्ज की जा रही है और पिछले 6 हफ्तों से इन्वैंट्री की लागत बढ़ गई है। ऐसे में देश में कार डीलर शोरूम के बंद होने का सिलसिला शुरू हो गया है। इसकी वजह से कम्पनियों में बड़े पैमाने पर छंटनी की जा रही है। फैडरेशन ऑफ ऑटोमोबाइल डीलर एसोसिएशन (फाडा) के मुताबिक पिछले एक साल में पैसेंजर व्हीकल के करीब 200 डीलर शोरूम बंद हो गए हैं। इसकी वजह से करीब 25,000 लोग बेरोजगार हो गए। आमतौर पर एक बड़ा डीलर 12 से 15 शोरूम और छोटा डीलर 5 शोरूम रखता है। एक अपर साइज शोरूम एक माह में करीब 700 व्हीकल बेचता है और इससे करीब 150 लोगों को रोजगार मिलता है जबकि छोटा शोरूम एक माह में 200 से 250 व्हीकल की बिक्री करता है और 60 लोगों को रोजगार देता है।

हालांकि पैसेंजर व्हीकल की ओर से अब तक डीलर शोरूम बंद करने का कोई डाटा नहीं सांझा किया गया है। इसके बावजूद इंडस्ट्री के जानकार कह रहे हैं कि बैंक से फंडिंग नहीं मिल रही है। वहीं मैन्यूफैक्चर्स की तरफ  से डीलर को डिस्पैच और व्हीकल लेने के लिए बैंक व एन.बी.एफ.सी. से कोई क्रैडिट नहीं मुहैया कराया जाता है। शोरूम को करीब 180 दिनों के लिए शॉर्ट टर्म क्रैडिट दिया जाता है। ऐसे में अगर सेल अच्छी रही तो दिक्कत नहीं होती लेकिन सेल न होने पर समस्या बढ़ जाती है। ऐसे में बैंक और एन.बी.एफ.सी. की तरफ  से व्हीकल खरीदने के लिए फंडिंग देने से मना कर दिया गया है क्योंकि शोरूम की तरफ से पुराना लोन नहीं चुकाया गया है। इसकी वजह व्हीकल बिक्री में कमी है। फाडा के अध्यक्ष ने बताया कि आमतौर पर मैट्रो सिटी के शोरूम बंद हो रहे हैं। इसमें दिल्ली और मुम्बई सबसे आगे हैं।

  • facebook
  • twitter
  • googleplus
  • linkedin

More News »